Selfish Person

“स्वार्थी व्यक्ति नमस्कार करे तो सावधान हो जाना चाहिए ” ~ चाणक्य सूत्र
When I Saw Mirror

आईना देखा जब, तो खुद को तसल्ली हुई, ख़ुदग़र्ज़ के ज़माने में कोई तो जानता है हमें।
Greatest Strength

बड़ी से बड़ी शक्ति मनुष्य को गिरा नहीं सकती, मनुष्य को गिराने वाला स्वं उसका स्वार्थ है !
World is Running

मेरे कारण ही दुनिया चल रही है, ऐसा सोचने वाले अनेक लोग अब नहीं है, लेकिन दुनिया फिर भी चल रही है।
Without Any Reason

selfish मुझे कौन याद करेगा इस भरी दुनिया में, हे ईश्वर ! बिना मतलब के तो लोग तुझे भी याद नहीं करते…!
Mean World

पहले उसने कहा कि दुनिया ‘प्यार’ से चलती है। फिर कहा कि दुनिया ‘दोस्ती’ से चलती है। लेकिन मैंने जब सब आज़माया तो पाया, कि दुनिया तो बस ‘मतलब’ से चलती है।
Selfish

मुझे किसी को मतलबी कहने का कोई हक़ नहीं। मैं तो खुद अपने रब को मुसीबतों में याद करता हूँ ।